केजरीवाल के आने के बाद दिल्ली में बढ़ा भ्रष्टाचार : सर्वे

नई दिल्ली. दिल्ली छोड़ पंजाब की कमान संभालने के सपने देख रहे अरविंद केजरीवाल को उनके ही पूर्व सहयोगी योगेंद्र यादव ने आत्ममुग्धता की नींद से झकझोरने की कोशिश की है.

कभी केजरीवाल के विश्वस्त सहयोगी और बाद में धक्के मार-मार कर आम आदमी पार्टी की मीटिंग से बाहर किए गए योगेंद्र यादव ने एक सर्वे करवाया है जिसके मुताबिक़ दिल्ली के लोगों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल सरकार के आने के बाद यहाँ भ्रष्टाचार में बढ़ोत्तरी हुई है.

सर्वे का यह निष्कर्ष साफ़-सुथरी और अलग किस्म की राजनीति के स्वघोषित ठेकेदार अरविंद केजरीवाल की परेशानियां बढाने वाला है. पंजाब और गोवा विधानसभा चुनाव में जीत की आस लगाए बैठी आम आदमी पार्टी की संभावनाओं को निश्चित ही इससे चोट पहुँची है.

सर्वे के मुताबिक़ दिल्ली के 36 फीसद लोग मानते हैं कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार आने के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है, जबकि 23 प्रतिशत लोगों का कहना है कि भ्रष्टाचार पहले जैसा है. वहीं, 25 फीसद दिल्ली की जनता मानती है कि इसमें कमी आई है.

सर्वे रिपोर्ट की मानें तो दिल्ली सरकार से महज 37 फीसदी लोग ही संतुष्ट हैं, जबकि 60 फीसदी लोग असंतुष्ट हैं. 23 फीसदी ऐसे लोग भी हैं जो यह मानते हैं कि दिल्ली सरकार के कामकाज में एलजी अडंगा लगाते हैं.

36 फीसदी लोगों का मानना है कि दिल्ली सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए एलजी का नाम लेती है. 56 फीसदी लोग दिल्ली में विधायकों के काम से संतुष्ट नहीं है. योगेंद्र यादव ने बताया कि नगर निगम चुनाव को लेकर भी एक सर्वे किया गया.

इसके मुताबिक, 37 फीसदी दिल्ली यही नहीं जानती, वह तीन नगर निगमों में किसके अंतर्गत आती है. 32 फीसदी लोग अपने वार्ड का नंबर तक नहीं जानते. सिर्फ 57 प्रतिशत लोग अपने पार्षद का नाम जानते हैं.

इस सर्वेक्षण से यह तथ्य भी सामने आया है कि दिल्ली की जनता अरविंद केजरीवाल सरकार से ज्यादा केंद्र में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी की सरकार से संतुष्ट है. सर्वे दिल्ली की 19 विधानसभा में 1202 लोगों पर किया गया है. नए साल के शुरुआती पांच दिनों में यह बातचीत अलग-अलग लोगों से की गई.

सर्वे के ये आंकड़े अरविंद केजरीवाल के पूर्व सहयोगी रहे योगेंद्र यादव की एक सर्वे रिपोर्ट के हैं. योगेंद्र ने पिछले दिनों इस रिपोर्ट को मीडिया के सामने इसे जारी किया. योगेंद्र यादव के मुताबिक, उन्होंने पूरे सर्वे को खुद डिजाइन किया है और सर्वे किसी एजेंसी से नहीं बल्कि खुद उनके लोगों ने किया है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY