ये समय तमिलनाडु पर नज़र रखने का, होने वाला है कुछ अच्छा

0
173

आप अनुमान लगाएँ, एक चोर एवं भ्रष्ट अधिकारी पकड़ा जाता है. कुछ दिनों के बाद वो जमानत पर छूट जाता है और बाहर आकर ट्वीट करके राहुल और ममता को समर्थन हेतु धन्यवाद देता है. आश्चर्य ना करें… यही सत्य है.

कुछ दिनों पहले की एक घटना को याद करें. तमिलनाडु के मुख्य सचिव पी राम मोहन राव और उनसे जुड़े लोगों के ऑफिस और घरों पर छापा पड़ा था. इस छापेमारी में 177 किलो सोना, 96 करोड़ के पुराने और 34 करोड़ के नये नोट मिले थे.

यदि घटना याद आ गई है तो ये भी जान लें कि ये मुख्य सचिव, शशिकला का ही गुर्गा था. उसी शशिकला का जिस पर ये आरोप था कि एक समय उसने जयललिता को स्लो पाइजन देकर मारने की कोशिश की थी… जिसका पर्दाफाश मोदी जी ने जयललिता को बताकर किया था.

अब जयललिता नहीं रही और शशिकला पार्टी सुप्रीमो बन गई.

शशिकला की कारगुजारियों के बारे में जान लें कि जब जयललिता जीवित थीं उस समय भी तमिलनाडु में शशिकला की समानांतर सरकार चलती थी. इसके गुर्गे मंत्रिमंडल में तो थे ही, अनेको ब्यूरोक्रेट्स भी इसी के आदेश का पालन करते थे.

जयललिता की अनुपस्थिति में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री का पद ओ पन्नीरसेल्वम पहले भी संभालते थे और अब भी संभाल रहे हैं. अंतर है तो इतना कि अब पन्नीरसेल्वम सिर्फ शशिकला के कठपुतली मात्र ही हैं.

एस गुरुमूर्ति

यह बात किसी की आँखो में खटक रही थी, और वे थे आरएसएस विचारक और अर्थशास्त्री एस गुरूमूर्ति. इनका एक और परिचय है कि ये विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन के सदस्य भी हैं.

इस फाउंडेशन के बारे में फिलहाल इतना ही समझें कि यह संघ के बाद दूसरा ऐसा संघ समर्थित संस्थान है जिसकी ताकत से मोदी को आप इस रूप में देख रहे हैं.

मोदी का थिंक टैंक है यह संस्थान… राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, मोदी के मुख्य सचिव पीके मिश्रा, मोदी के एडिशनल सचिव नृपेंद्र मिश्रा, दिल्ली के नए एलजी अनिल बैजल भी इसी संस्थान से जुड़े हुए हैं.

तो गुरूमूर्ति साहब ने मोदी को सलाह दी कि तमिलनाडु में पन्नीरसेल्वम की ताकत को मजबूत बनाना चाहिए, शशिकला का साथ देने पर भाजपा का दांव उल्टा पड़ जाएगा.

मोदी इतने से ही सब कुछ समझ गए. फिर क्या था फौरन ही लपेट लिया गया उस मुख्य सचिव को, जो शशिकला के काले-पीले कारनामे और संपत्तियों का संचालन करता था.

अब भविष्य में अन्नाद्रमुक में पड़ने वाली फूट का इंतजार करें और इसका फायदा भाजपा कैसे उठाती है, वो तो समय ही बताएगा.

पर इतना जान लें कि अब तमिलनाडु में भी आने वाले समय में कुछ अच्छा होने जा रहा है जिसकी शुरुआत हो चुकी हैं. और इसके लिए शशिकला पर भी आगे शिकंजा कसा जाएगा, इसमें कोई संदेह नहीं है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया ऑनलाइन (www.makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया ऑनलाइन के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया ऑनलाइन उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY