मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा को श्रद्धांजलि देने भोपाल पहुंचे प्रधानमंत्री

भोपाल. भाजपा के वरिष्ठ नेता और अविभाजित मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा का हार्ट अटैक के बाद एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया. उनकी पार्थिव देह भोपाल स्थित भाजपा कार्यालय में शाम चार बजे तक अंतिम दर्शनों के लिए रखी गई है.

[मप्र के दो बार मुख्यमंत्री रहे सुंदरलाल पटवा का निधन, प्रदेश में 3 दिन का राजकीय शोक]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल के हबीबगंज स्थित भाजपा प्रदेश मुख्यालय पहुंचकर दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा को श्रद्धांजलि दी. प्रधानमंत्री मोदी ने उनके पार्थिव शरीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए.

सुंदरलाल पटवा 92 वर्ष के थे. जानकारी के मुताबिक सोते वक्त उन्हें हार्ट अटैक आया था, जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया था. अंतिम संस्कार नीमच जिले में उनके पैतृक गांव कुकडेश्वर में 29 दिसंबर को दोपहर 2 बजे होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विशेष विमान से भोपाल पहुंचे. विमानतल पर उनकी अगवानी के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौजूद थे. विमानतल से प्रधानमंत्री सीधे भाजपा के प्रदेश मुख्यालय के लिए रवाना हो गए. जहां उन्होंने सुंदरलाल पटवा को श्रद्धांजलि अर्पित की.

पटवा के निधन की सूचना मिलने पर प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर अपनी शोक संवेदना व्यक्त की थी. दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि देते हुए मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘मैं सुंदरलाल पटवा के निधन से दुखी हूं. वह परिश्रमी एवं समर्पित नेता थे. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में किये गये उनके अच्छे कार्यो को सदा याद रखा जाएगा.’

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया कि पटवा ने जनसंघ से लेकर भाजपा तक विभिन्न जिम्मेदारियां निभाई. उनकी कड़ी मेहनत एवं समर्पण हमारे कार्यकर्ताओं को हमेशा प्रेरित करती रहेगी.

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि सुंदर लाल पटवा जी का निधन प्रदेश के लिए अपूर्णीय क्षति है. उन्होंने अपना पूरा जीवन जनहित और विकास कार्यों को समर्पित कर दिया था. मप्र के विकास के लिए आजीवन प्रयासरत रहने वाले पटवा जी आप स्वच्छ राजनीति के पर्याय हैं, आपको भुलाया नहीं जा सकेगा.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अविभाजित मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है. डॉ सिंह ने कहा कि अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने आम जनता के जीवन में बदलाव लाने के लिए अनेक योजनाएं शुरू की, जिसका लाभ छत्तीसगढ़ की जनता को भी मिला.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY