दुनिया की सबसे मोटी महिला अब इलाज के लिए आ रही है भारत

Iman-Ahmad-Abdulati dr muffazal lakdawala makingindia

दुनिया की सबसे मोटी जिन्दा महिला, नाम – ईमान अहमद, उम्र-३६ साल, निवासी-इजिप्ट, वजन- एक हजार एक सौ दो पाऊन्ड यानि पूरे पांच क्विन्टल अर्थात 500 किलो.

पैदा होते समय भारी भरकम 5 किलो वजन, 11 साल की फम्र से ही थाइराड होने से अचानक वजन बढ़ने लगा. घुटनों ने वजन ढ़ोने से इन्कार कर दिया. 16 साल की उम्र होते होते ईमान का वजन तीन क्विन्टल हो गया. कार के दरवाजे में घुसना असम्भव हो गया.

व्हील चेअर उसके साइज की मिलना मुश्किल. ब्लड प्रेशर, मधुमेह जनित सभी बीमारियों ने आ घेरा. फिछले 20 सालों से सिर्फ बिस्तर पर ही लेटे लेटे जिन्दगी गुजार रही है. दो साल पहिले क्लोरेस्ट्राल बढ़ने से स्ट्रोक आ गया. अब बोलना भी बन्द हो गया. शरीर में पानी भरने लगा. पूरा शरीर फूल गया. आज उसका वजन पूरे 500 सौ किलो ग्राम का हो गया.

ईमान की छोटी बहिन ने हिम्मत नहीं हारी, सोशल मीडिया पर पहल करके बम्बई स्थित डाक्टर मुफ्फाझल लकड़ावाला का पता चला. डाक्टर लकड़ावाला ने अभी तक 300 किलोग्राम वजन के मोटे तगड़े लोगों की चर्बी आपरेशनों से बाहर निकाल कर उन्हें पूरी तरह फिट करने की महारत हासिल कर ली है.

ईमान अहमद को दुबला करके उसे नई जिन्दगी देने का संकल्प लकड़वाला ने स्वीकार कर लिया है. ‘Save Eman’ नामक मुहिम चलाकर लकड़वाला ने ईमान के आपरेशन, आने जाने रहने आदि का पैसा जुटा लिया है. ईमान के वह क्रमश: दो आपरेशन करेंगे, उसे पूरा ठीक होने में तीन से साढ़े तीन साल लग सकते हैं. ईमान का वजन 500 किलो से घटाकर 100 किलो कर दिया जाएगा.

पर ईमान का काहिरा से मुम्बई आना आसान काम नहीं है. सबसे पहले तो उसको भारत का वीसा पाने में परेशानी हुई. क्योंकि ईमान पूरी तरह बिस्तर पर है उसे उठाकर ले जाने लायक कोई स्ट्रेचर अभी तक नहीं बना है. ईमान भारतीय दूतावास में खुद जा नहीं सकती थी और बगैर जाए वीसा मिल नहीं सकता था.

डाक्टर लकड़ावाला ने विदेशमंत्री सुषमा स्वराज से गुहार लगाई और वीसा मिल गया. अब ईमान को लाने के लिए सबसे बडी दिक्कत यह है कि किसी विमान का दरवाजा इतना चौड़ा नहीं बना है जिसमें से ईमान को भीतर धकेला जा सके. अब विशेष चार्टर्ड कार्गो विमान ढूँढा जा रहा है, जिसमें लादकर ईमान को मुम्बई भेजा जा सके.

इधर डाक्टर लकड़वाला ने मुम्बई के नामी गिरामी कई डाक्टरों की टीम तैयार कर ली है. मरीज की सभी मेडीकल रिपोर्टों का बारीकी से अध्ययन कर लिया गया है. इन्तजार है, बस ईमान अहमद के आने का.

आइये हम सब भी ईमान अहमद के जल्दी ठीक होकर वापस मिस्र तक खुद के पैरों से चलकर जाने के मेडीकल करिश्मे के सफल होने की कामना करें.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY