डिजिटल दुनिया को कैसे उपयोग करते हैं, इस पर टिका है जीवन का अंधियारा-उजियारा

0
48

सोशल मीडिया का युग आया तो लोगों ने दोनों हाथों से इसे लपका. फिर पोस्ट, कमेंट्स का दौर चला और सारे ज्ञान-संस्कार, अक़्ल, बौद्धिकता की पोल खुलकर सामने आ गई.

अभी तक लगभग जो बन्द मुट्ठी थी, वो खुल गई. ऐसा लगता है कि बची-खुची कसर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पूरी कर देगा. बेसिर-पैर की बातें और जिरह, दोहरे मापदण्डों का महिमामण्डन, झूठ का सत्कार सब कुछ है.

कभी-कभी लगता है कि विदेशियों ने ये आधुनिक नेटवर्क सुविधा हमारी इज्जत उतारने के लिए ही हमें गिफ्ट की है और हमेशा की तरह हम नासमझों ने उसे लपक लिया.

फिर लपकने के बाद इस पटल पर अपनी कूपमण्डूकता, जातिवाद, अंधविश्वास, धर्मान्धता, संकीर्णता का परिचय देना प्रारम्भ कर दिया. अपने ही हाथों अपनी प्राचीन महान गौरव गाथा धूमिल करने का रास्ता खोजा और चिर-स्थाई पटल पर उसकी छाप प्रस्तुत कर दी.

अब तो देखकर यह अहसास होता है कि हमारी महानता का प्राचीन इतिहास शायद वास्तविक कम और काल्पनिक ज्यादा होगा क्योंकि कोई भी महान कौम इतनी ज्यादा कमतर नहीं हो सकती जैसा कि सोशल नेटवर्क पर आज दिख रही है.

सोशल नेटवर्क पर सक्रिय समस्त भारतीय हमारे देश के क्रीम जनरेशन हैं. आखिर नवीन तकनीक गंवारों के हाथ तो नहीं मानी जा सकती, फिर उनके ये हाल हैं तो शेष भारतीयों का बौद्धिक स्तर क्या होगा यह जानने के लिए अब शायद ज्यादा मशक्कत करने की जरूरत भी न पड़े.

युवा, उम्र दराज, पेशेवर, राजनीतिक, धार्मिक, सामाजिक सभी क्षेत्र के लोग भी फूहड़ता, संकीर्णता, घृणा, द्वेष, ईर्ष्या फैलाते नजर आ-रहे हैं. यह सब देखकर कल शायद ही कोई यकीन करेगा कि हमारी प्राचीन शिक्षा, ज्ञान, अध्यात्म इसी देश में रचे गए थे.

ख़ास बात यह भी है कि हमें इस सोशल नेटवर्क के परिदृश्य ने इस सच्चाई से भी रूबरू करा दिया कि हमें जिस ज्ञान की घुट्टी पढ़ाई जाती रही है उससे हम निश्चित रूप से भटके हुए हैं, नहीं तो इस तरह की दिमागी गन्दगी क्यों कर बची रहती?

हो सकता है कि जिन्होंने बौद्धिकता के मुकुट लगाए हुए थे वे भी शायद हमारा सही मार्गदर्शन नहीं कर पाए या जो बन्द कमरों में बौद्धिक मन्थन चलते रहे उनकी असलियत अब बौद्धिक कुचक्र के रूप में सामने आ-गई है.

क्या ये सही वक्त नहीं है कि हम इस हकीकत को स्वीकारें ताकि आने वाले कल को बेहतर बना सके!

सोशल नेटवर्क पर अनर्गल पोस्ट या कमेंट्स लिखना और उन्हें डिलीट कर हटा लेने वाले चाहे खुद को आज बहुत बुद्धिमान समझें, पर वे ये जान लें कि यह सिर्फ झूठी तसल्ली है क्योंकि इस नेटवर्क से कुछ हटता नहीं है.

डिजिटल डाटा भी एक तरह से नष्ट नहीं होता, जैसे शब्द ब्रह्माण्ड में घूमता रहता है, लगभग उसी तरह डाटा का भी अस्तित्व बना रहता है.

सोशल नेटवर्क के समस्त सर्वर विदेशों में स्थित है. हमारा प्रत्येक क्लिक उनके पास रिकार्ड है. विकिलीक्स इसका बहुत बेहतरीन उदाहरण है.

फर्जी आईडी बनाने वाले यदि चाहें तो जुकरबर्ग से अपनी जन्मपत्री पूछ सकते हैं. फेसबुक किसी भी फर्जी आईडी को ट्रैक कर उसके परिवार को भी उसकी करतूतें दिखा सकता है.

फेसबुक या ट्वीटर या व्हाट्सएप नेटवर्क किसी भी आईडी की सम्पूर्ण जानकारी मय लोकेशन, डेस्कटॉप, घर, ऑफिस, कमरा, दूकान, गली, मोहल्ला, शहर, कस्बा, गाँव, नाम, पता, परिवार तक का लेखा-जोखा प्रस्तुत कर सकता है.

कोई फर्जी आईडी बनाकर चाहे खुद की पहचान छुपा कर गुमनाम समझे पर सिलिकन वैली में वो अदृश्य नहीं रह सकता.

आज जो लोग स्वयं की पहचान को छुपी जान कर फर्जी आईडी से अनैतिक और मनमर्जी के काम कर रहे हैं, हो सकता है कल को इसी फर्जी आईडी के कारण ब्लैकमेलिंग में फ़ंस जाएं.

विकिलीक्स की तरह ही यूज़र की साइट विज़िट, डाउनलोडिंग, मेल, चैट इत्यादि की जारकारी का दुरुपयोग भी किया जा सकता है. अनैतिकता की पोल खोल देने का डर कुछ भी करा सकता है.

भयावह मंजर हो सकता है जब डिजिटल डाटा का अंदरुनी रहस्य भूत-प्रेत की तरह पीछे पड़ जाएगा. ऑनलाइन होते ही मैसेज अलर्ट आने लगेंगे. नेट ऑफ़ किया तो फोन पर अंजान नम्बर से मिस कॉल आने लगेंगे.

फोन ऑफ़ किया तो फैमिली मेम्बर्स को हमारे कुशल-क्षेम के मैसेज आने लगेंगे. छोटे, बड़े, भूले-बिसरे, अदना-मशहूर, कोई शख्सियत हो सब इसके शिकार हो सकते हैं.

आने वाले समय में इस तरह से गोपनीय डाटा बेचने-खरीदने और ब्लॅकमेकिंग के धंधे का जोर भी होने वाला है. गोरखधंधे, कालाधन, टैक्स चोरी, डिपॉजिट, चल-अचल संपत्ति की जानकारी किसी भी उपाय से गोपनीय रहने वाली नहीं है.

लेकिन तस्वीर का दूसरा पक्ष भी है जो कहीं अधिक सुनहरा है जिससे दुनिया की सूरत और सीरत बदलने वाली है.

डिजिटल दुनिया कई अकल्पित संभावनाओं का द्वार भी खोल देगी जो पीड़ित मानवता के उद्धार में सहायक होगी. वन क्लिक सुविधा से असीमित सुविधाओं का रास्ता बनेगा तो पीड़ा, आपदा में पलक झपकते ही संसाधन जुट जाएंगे.

सबसे बढ़कर डिजिटल चमत्कार का प्रभाव समाज की असमानता समाप्त करने में होगा. संसाधन-सुविधा और अवसर की उपलब्धता हर हाथ में होगी. असीमित रोजगार उत्पन्न होंगे जो दुनिया का परिदृश्य बदल देंगे.

असाध्य बीमारियां, जन्मना विकृति, विकलांगता इत्यादि दूर होना इतना सरल हो जाएगा कि मानों जादू देख रहे हों. सचमुच हम जादुई दुनिया की दहलीज पर खड़े हैं.

डिजिटल दुनिया से जितनी कालिमा पुतने की संभावना है तो उससे अधिक उजियारा होने की भी है. बस हम पर निर्भर करता है कि हम इस डिजिटल दुनिया को कैसे उपयोग करते हैं और इस नयी डाटा जिंदगी को किस तरह जीते हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY