रिसोर्ससैट-2A को लेकर PSLV-C36 रवाना, इसरो की एक और कामयाबी

ISRO's PSLV-C36 Carrying Remote Sensing Satellite RESOURCESAT-2A Launched From Sriharikota

नई दिल्ली. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अपने धुर्वीय उपग्रह प्रक्षेपण यान के जरिये बुधवार को दूरसंवेदी उपग्रह रिसोर्ससैट-2A का प्रक्षेपण कर दिया. उपग्रह को पहले 28 नवंबर को प्रक्षेपित किया जाना था.

दूरसंवेदी उपग्रह रिसोर्ससैट-2A को लेकर पीएसएलवी-सी 36 सुबह के करीब दस बजकर 25 मिनट पर आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से उड़ान भरी.

यह पीएसएलवी की 38वीं उड़ान है और इसके तहत यह प्रक्षेपण यान 1235 किलोग्राम वजन के रिसोर्ससैट-2A को सूर्य की समकालिक कक्षा में स्थापित करेगा.

रिसोर्ससैट-2A एक दूरसंवेदी उपग्रह है, जिसका लक्ष्य इससे पहले वर्ष 2003 में प्रक्षेपित रिसोर्ससैट-1 और वर्ष 2011 में प्रक्षेपित रिसोर्ससैट-2 के कार्यों को आगे बढ़ाना है.

इसका लक्ष्य वैश्विक उपयोगकर्ताओं के लिए दूरसंवेदी डेटा सेवाएं जारी रखना है. यह अपने पूर्ववर्ती उपग्रहों की तरह के तीन उपकरणों को लेकर जा रहा है.

रिसोर्ससैट- 2A में उच्च क्षमता वाला एक लिनियर इमेजिंग सेल्फ स्कैनर कैमरा, मध्यम क्षमता वाला एक एलआईएसएस-3 कैमरा और एक अत्याधुनिक सेंसर कैमरा लगाय गया है, जिनका इस्तेमाल विभिन्न बैंड के लिए किया जाता है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY