जनमत संग्रह में हार के बाद इस्तीफे की घोषणा करने वाले रेंजी बने रहेंगे इटली के पीएम

रोम. संवैधानिक सुधार पर जनमत संग्रह में हार मिलने के बाद इटली के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने की घोषणा करने वाले मैटियो रेंजी फिलहाल पड़ पर बने रहेंगे.

इससे पहले ‘नो कैंप’ की ‘‘असाधारण स्पष्ट’’ जीत के बाद प्रधानमंत्री रेंजी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा था ‘सरकार चलाने का मेरा अनुभव यहीं समाप्त होता है.’

हालांकि बाद में मैटियो रेंजी तत्काल पद न छोड़ने के लिए राजी हो गए. अब वे तब तक प्रधानमंत्री बने रहेंगे जब तक सीनेट 2017 के लिए बजट को पास न कर दे.

इसके बाद राष्ट्रपति सर्जियो मैटारेला या तो नए प्रधानमंत्री का चुनाव करेंगे या समय पूर्व चुनाव कराएंगे.

गृह मंत्री के अनुमानों के अनुसार फाइव स्टार मूवमेंट के नेतृत्व में नो कैंप ने मतदान करने वालों के 59.5 प्रतिशत समर्थन के साथ जनमत संग्रह में जीत हासिल की. करीब 70 प्रतिशत इतालवियों ने रविवार को वोट डाला.

इस जनमत संग्रह में काफी कुछ दांव पर लगा होने और विभिन्न अहम मामलों के इससे जुड़े होने के कारण असाधारण रूप से बड़ी संख्या में मतदान हुआ.

अधिकतर विशेषज्ञ इस बात की सर्वाधिक संभावना देखते हैं कि रेंजी के बाद प्रशासन की जिम्मेदारी साल 2018 में चुनाव होने तक उनकी ही डेमोक्रेटिक पार्टी का कोई केयरटेकर संभालेगा.

रेंजी के बाद काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभालने के लिए वित्त मंत्री पियर कालरे पैडोआन सर्वाधिक लोकप्रिय उम्मीदवार हैं. इटली के प्रधानमंत्री को औपचारिक रूप से काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स का अध्यक्ष कहा जाता है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY