मैं तुम्हारी अयोध्या हूँ राम

0
47
ayodhya-ram-poem-by-ma-jivan-shaifaly
मैं तुम्हारी अयोध्या हूँ राम

सीता के राम
अहिल्या के राम
कौशल्या के राम
केकैयी के राम
सुमित्रा के राम
दशरथ के राम
भरत और लक्ष्मण के राम
हनुमान के राम
विभीषण के राम
विश्वामित्र के राम
और रावण के भी राम

राम तो सबके होते हैं… सबके रहेंगे
लेकिन अयोध्या,
वो अयोध्या तो केवल राम की है…

मैंने तुम्हें जन्म नहीं दिया,
फिर भी तुम्हारी जन्मभूमि हूँ
मुझसे तुम्हें वनवास मिला
फिर भी दीपावली मैंने ही मनाई…

जो तुम्हें जपेगा तुम्हारा अवश्य हो जाएगा,
तुम जगत के हो और जगत के ही कहलाओगे….
तुम सबके हो राम….

लेकिन मैं….
मैं तुम्हारी अयोध्या हूँ राम!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY