सीमा के इतने गांवों की, सेना लाज बचाती है, उस सेना के पदचापों से, ममता क्यों घबराती है?

poem-on-mamta-benerji

जिस सेना के हर सैनिक का, शीश राष्ट्र को अर्पित है |
जिस सेना के बलिदानों से, भारत माता गर्वित है ||

जिस सेना की संगीनों से, देश सुरक्षा पाता है |
जिस सेना पर भारतवासी, अपनी जान लुटाता है ||

जिस सेना ने नाखूनों से, पर्वत को भी चीरा है |
ज्वालामुखियों के लावो पे, जिसने रचा जजीरा है ||

बाढ़ आपदा आने पे जो, सबकी जान बचाती है |
निज तन की आहुति देकर,  जो माँ का मान बढ़ाती है ||

राजनीति के हथकंडों पे, कभी न जिसने कान दिया |
दुश्मन तक को जिस सेना ने, वीरोचित सम्मान दिया ||

सीमा के इतने गावों की, सेना लाज बचाती है |
उस सेना के पदचापों से, ममता क्यों घबराती है?

चोर बसा है तेरे अन्दर, तू उससे ही घुटती है |
कवि की बाणी सुन ले ममता, निज पापों से डरती है ||

बंग भूमि का नाश किया है, ममता बानो पापिन है |
आर्य वंश में जन्म लिया पर, कुल कलंक कुल घातिन है ||

घड़ा पाप का भरा हुआ है, समय आ गया टूटेगा |
मरे हुए हिन्दू लाशों से, ब्रह्म राक्षस फूटेगा ||

सिर्फ हवा की आहट पाकर, तू डर डर चिल्लाएगी |
आर्य वंश का श्राप लगा है, तू पागल हो जाएगी ||

Comments

comments

loading...
SHARE
Previous article‘आतंकी ताकतों को सहयोग, शरण, प्रशिक्षण देने वालों पर दृढ़ कार्रवाई की जरूरत’
Next articleफिर मत कहना कि बहुत असहिष्णु हो गया है भारत
blank
जन्म : 18 अगस्त 1979 , फैजाबाद , उत्त्तर प्रदेश योग्यता : बी. टेक. (इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग), आई. ई. टी. लखनऊ ; सात अमेरिकन पेटेंट और दो पेपर कार्य : प्रिन्सिपल इंजीनियर ( चिप आर्किटेक्ट ) माइक्रोसेमी – वैंकूवर, कनाडा काव्य विधा : वीर रस और समसामायिक व्यंग काव्य विषय : प्राचीन भारत के गौरवमयी इतिहास को काव्य के माध्यम से जनसाधारण तक पहुँचाने के लिए प्रयासरत, साथ ही राजनीतिक और सामाजिक कुरीतियों पर व्यंग के माध्यम से कटाक्ष। प्रमुख कवितायेँ : हल्दीघाटी, हरि सिंह नलवा, मंगल पाण्डेय, शहीदों को सम्मान, धारा 370 और शहीद भगत सिंह कृतियाँ : माँ भारती की वेदना (प्रकाशनाधीन) और मंगल पाण्डेय (रचनारत खंड काव्य ) सम्पर्क : 001-604-889-2204 , 091-9945438904

LEAVE A REPLY