अल्पमत के हाथों बंधक नहीं रखी जा सकती संसद में कार्यवाही : भाजपा

नई दिल्ली. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के लोकसभा में विपक्ष की आवाज को दबाए जाने के आरोपों को भाजपा ने दिवालियापन बताते हुए कहा कि संसद में कार्यवाही को अल्पमत के हाथों बंधक नहीं रखा जा सकता.

राहुल के आरोपों का खंडन करते हुए भाजपा ने कहा कि जब आयकर अधिनियम में संशोधन संबंधी विधेयक को सदन में पारित किया गया तो लोकसभा अध्यक्ष ने सारे संसदीय मानदंडों का पालन किया.

भाजपा की तरफ से केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने मोर्चा संभालते हुए कहा, हम राहुल गांधी और विपक्षी पार्टियों के आरोपों को पूरी तरह खारिज करते हैं, क्योंकि लोकसभा अध्यक्ष ने सारे संसदीय मानदंडों का पालन किया.

जावडेकर ने कहा, आरोप उनके दिवालियेपन को दर्शाते हैं. यद्यपि लोकसभा में वे अल्पमत में हैं, लेकिन वे नहीं चाहते हैं कि कोई भी काम हो.

राज्यसभा में प्रधानमंत्री की मौजूदगी के बावजूद विरोध प्रदर्शन के लिए विपक्ष पर निशाना साधते हुए जावडेकर ने कहा कि उन्हें आश्चर्य नहीं होगा अगर वे ये मांग करते हैं कि अगर संसद को चलाना है तो मोदी एक साथ दोनों सदनों में उपस्थित हों.

जावडेकर ने कहा, संसद में अल्पमत लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बंधक नहीं बना सकता. सबकुछ नियम, कानून, परंपराओं और परिपाटी के अनुसार किया गया.

उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी मोदी सरकार पर नियमों को ताक पर रखकर आयकर संशोधन विधेयक पास कराने का आरोप लगाते हुए गुरुवार शाम 16 विपक्षी दलों के नेता राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से शिकायत करने पहुंचे थे.

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने सरकार पर उनकी आवाज को दबाने और संसदीय मानदंडों को तोड़ने का आरोप लगाया.

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने चर्चा कराए बगैर इतना अहम विधेयक पास करा लिया जो सही तरीका नहीं है.

इस मौके पर विपक्ष के नेताओं ने एक बार फिर सरकार के खिलाफ एकजुटता का राग अलापा.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY