राबड़ी देवी ने अपने बोल से बिहार को किया शर्मसार

Rabri Devi Statement on Modi

आपकी परवरिश जैसे माहौल में होती है उसका असर आपके व्यवहार, आपकी वाणी और आपके चरित्र में स्पष्ट रूप से दिखता है. पूर्व मुख्यमंत्री व राजद नेत्री राबड़ी देवी ने आज एक बार फिर से इस बात को साबित कर दिया.

भले ही राबड़ी जी एक लंबे अरसे से राजनीति में सक्रिय हैं लेकिन उन्हें अब तक राजनीतिक लड़ाई और मोहल्ले की लड़ाई में अंतर समझ में नहीं आ सका है. अपने विवादित बयानों की श्रृंखला को बढ़ाते हुए आज उन्होंने ऐसा कुछ कह डाला जिसके लिया “अमर्यादित” विशेषण भी छोटा हो जाता है.

बिहार विधान मंडल परिसर में नोटबंदी को लेकर पत्रकारों के एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा- “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी नीतीश जी को अपने घर ले जाएं और अपनी बहन से विवाह करा दें.”

हालांकि बाद में राबड़ी देवी सफाई देते हुए बोलीं कि मैंने सुशील मोदी को कहा कि वो नीतीश को अपने गोदी में उठा कर घर ले जाएं.

गौरतलब है कि नोटबंदी पर केंद्र की मोदी सरकार को नीतीश कुमार का समर्थन देना और भारत बंद में जदयू का शामिल नहीं होना काफी चर्चा का विषय रहा.

साथ ही हाल के दिनों में कई बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री मोदी के बीच फोन द्वारा बातचीत भी कहीं न कहीं राजद को रास नहीं आ रही थी. इसे लेकर पिछले कई दिनों से सियासत गरमायी हुई है.

सभी दलों के नेताओं के बीच इस मुद्दे पर बयानों की झड़ी लगी हुई है. परंतु आज तो उस समय सभी दंग रह गए जब मोदी-नीतीश की कथित नजदीकियों पर जब राबड़ी देवी ने झल्लाकर इस मामले में खीझ उतारते हुए एक पत्रकार द्वारा पूछे गये सवाल का ऐसा अटपटा जवाब दे दिया.

राबड़ी जी पहले भी नीतीश कुमार को लेकर आपत्तिजनक बयान दे चुकी हैं और मान- हानि के मुकदमे का भी सामना कर चुकी हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री का यह बयान दिखता है कि राजनीतिक और लोक जीवन में शुचिता की किस हद तक कमी आयी है. इस बयान को हलके में लेना एक भूल होगी क्योंकि इससे एक गलत परंपरा की शुरुआत हो सकती है.

अफ़सोस ऐसी छिछली बयानबाजी उस बिहार में हो रही है जहाँ से लोकतंत्र ने पग भरना सीखा.

– अभिषेक दास

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY