सुब्रत राय की पैरोल 6 फरवरी तक बढ़ी, 600 करोड़ जमा नहीं किए तो होगी रद्द

नई दिल्ली. बीती 6 मई से पैरोल पर रिहा सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की पैरोल एक बार फिर बढ़ा दी गई है.

पिछली पैरोल अवधि आज 28 नवंबर को ख़त्म हो रही थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ा कर 6 फरवरी 2017 कर दी.

इसके साथ ही कोर्ट ने सहारा ग्रुप को SEBI के पास 6 फरवरी तक 600 करोड़ रुपये जमा कराने का भी आदेश दिया है.

कोर्ट ने कहा कि अगर तय समय में रकम अदा नहीं की गई तो पैरोल रद्द हो जाएगी, और सुब्रत रॉय को सरेंडर करना होगा.

दरअसल सहारा समूह काफी वक्त से सेबी के साथ एक लंबी कानूनी लड़ाई लड़ रहां है जिसके तहत उन्हें निवेशकों को 24 हज़ार करोड़ रुपये लौटाने हैं.

सहारा ने अभी तक 11 हज़ार करोड़ रुपये लौटा दिए हैं. सहारा ने अपनी रिपेमेंट योजना कोर्ट के सामने रखी है और कहा कि कंपनी बाकी रकम ढाई साल में जमा कर देगी.

इस पर कोर्ट ने सहारा से कहा कि आपने पहले कहा था कि आपके पास 1 लाख 87 हज़ार रुपये की जायदाद है. तो क्या आप 20 हज़ार करोड़ रुपये की रकम का भुगतान नहीं कर सकते.

सहारा के वकील कपिल सिब्बल ने इस पर कहा कि मार्केट के हालात ठीक नहीं है.

कोर्ट ने फटकार लगाते हुए कहा ‘मार्केट जैसी चीज़ें सब नज़रिए की बात है. किसी के लिए बाज़ार अभी अच्छा है और किसी के लिए बुरा.’

68 साल के रॉय को मार्च 2014 में तब गिरफ्तार कर लिया गया था जब सहारा ने कोर्ट के एक आदेश का पालन नहीं किया था.

इस आदेश में कहा गया था कि सहारा उन लाखों छोटे निवेशकों को पैसा लौटाए जिन्हें वे बॉन्ड बेचे गए थे जो गैरकानूनी थे.

कोर्ट ने सहारा को संपत्तियों के बारे में जानकारी छिपाने पर भी फटकार लगाई. सहारा ने सेबी के पास 60 संपत्तियां सबमिट की हैं.

इनमें से 47 संपत्तियां इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की तरफ से अटैच्‍ड थीं. जिसके बारे में जानकारी कोर्ट को नहीं दी गई थी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY