माफिया का सबसे महत्वपूर्ण नियम है Omerta यानी मौन का सिद्धांत, जिसे मोदी ने तोड़ दिया

मनमोहन सिंह जी.... आपने 10 साल तक PM रहते इटालियन माफिया गिरोह के Law Of Omerta का पालन किया. देश लुटता रहा.... आप चुप रहे....

0
331

उस दिन राज्य सभा में बोलते हुए सोनिया गांधी के सिपाही ने कहा कि मोदी की ये नोट बंदी Organized लूट है. संगठित रूप से जनता के पैसे की लूट.

आधुनिक समाज में संगठित अपराध मने Organized Crime की उत्पत्ति Italy में मानी जाती है.

संगठित अपराधियों के गिरोह को Mafia कहा जाता है और उनके सरगना को Don…. माफिया के अपने कायदे क़ानून होते हैं, अपने तौर तरीके…. वो समाज में अपनी समानांतर सत्ता और सरकार चलाते हैं.

माफिया क़ानून में सबसे महत्वपूर्ण नियम है Omerta….. मौन का सिद्धांत.

मने एक गिरोह दूसरे गिरोह की गैरकानूनी गतिविधियों में न कोई दखलंदाजी करगा…. न कोई मुखबिरी या सूचना का आदान प्रदान करेगा….

सरकार या क़ानून के पास कभी कोई शिकायत नहीं करेगा…. पुलिस में कभी फंस जाएगा तो मर जाएगा पर मुंह नहीं खोलेगा….

दो गिरोहों में यदि कोई विवाद होगा तो आपस में पंचायत करके सुलझा लेगा पर कभी भी पुलिस के पास नहीं जाएगा.

निरपराध है और अगर किसी केस में सजा हो गयी तो चुपचाप सजा काट लेगा पर मुंह नहीं खोलेगा.

यदि उसके इर्द गिर्द कोई अपराध हो रहा है तो होने देगा…. उसमें न कोई टांग अड़ाएगा, न कोई अड़चन पैदा करेगा, न पुलिस या सरकार को कोई सूचना / मुखबिरी करेगा.

मोटे तौर पर कहें तो अपना मुह बंद रखेगा.

Wikipedia के अनुसार Omertà implies “…the categorical prohibition of cooperation with state authorities or reliance on its services, even when one has been victim of a crime.”

A person should absolutely avoid interfering in the business of others and should not inform the authorities of a crime under any circumstances (though if justified he may personally avenge a physical attack on himself or on his family by vendetta, literally a taking of revenge, a feud).

Even if somebody is convicted of a crime he has not committed, he is supposed to serve the sentence without giving the police any information about the real criminal, even if that criminal has nothing to do with the Mafia.

Within Mafia culture, breaking omertà is punishable by death.

सरदार मनमोहन सिंह जी उस दिन राज्य सभा में शायद इसी इटालियन गिरोह के Organized Loot की बात कर रहे थे.

यूँ देखा जाए तो भारतीय राजनीति में मोदी जी ने Omerta के सिद्धांत का उल्लंघन किया है.

आज तक भारतीय राजनीति का ये अघोषित नियम रहा…. लूटो और लूटने दो. पब्लिक को मूर्ख बनाने के लिए ऊपरी तौर पे चोर चोर का शोर मचाते रहो पर अन्दर अन्दर लूट खसोट चलने दो….

एक दूसरे के काम में दखलंदाजी मत करो. सत्ता में रहते हुए भी विरोधी द्वारा लूटी गयी रकम को मत छुओ.

Let him enjoy….

मोदी ने भारतीय राजनीति के इस अघोषित Omerta के सिद्धांत का उल्लंघन कर दिया है नोट बंदी करके….

मोदी ने जब कहा था कि “न खाउंगा न खाने दूंगा” तब लोगों ने उनकी इस बात को बहुत गंभीरता से नहीं लिया था.

पर अब तो मोदी जी ने ये भी कह दिया है कि न खाउंगा न खाने दूंगा बल्कि पिछले 70 साल में जो लूटा उसे भी वसूल करूंगा….

मनमोहन सिंह जी…. आपने 10 साल तक PM रहते इटालियन माफिया गिरोह के Law Of Omerta का पालन किया. देश लुटता रहा…. आप चुप रहे….

मोदी ने Omerta तोड़ दिया है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया ऑनलाइन (www.makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया ऑनलाइन के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया ऑनलाइन उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY