धर्मयुद्ध : तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया?

1
488
narendra-modi-mamata-mulayam-kejri-maya-rahul-making-india
Demonetization : PM Modi vs All

8 नवम्बर रात 8 बजे मोदी ने जब काले धन के खिलाफ धर्मयुद्ध का शंख फूंक दिया. दोनों सेनायें आमने सामने आ खड़ी हुईं.

नोट बंदी के एलान के बाद राहुल गांधी, माया, ममता, मुलायम और केजरीवाल इत्यादि नेताओं के अंग प्रत्यंग शिथिल होने लगे. गांडीव की डोर ढीली पड़ गयी….

ऐसे में मोदी जी ने माइक सम्हाला और इस प्रकार उपदेश देने लगे –

क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? मेरे अलावा कौन तुम्हें मार सकता है? काला धन ना सफ़ेद होता है, न किसी काम आता है.

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा.

तुम भूत काल में किये पापों का पश्चाताप करो. भविष्य में जेल जाने की चिन्ता करो. वर्तमान चल रहा है.

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? न तुम कुछ लेकर आए न ले के जाओगे.

हे राहुल, तुमरी मम्मा इटली की एक साधारण नागरिक थीं…. हे माया, तुम दिल्ली में एक कमरे के घर में रहती थी….

हे मुलायम तुमरे घर में एक साइकिल तक न थी…. हे केजरीवाल, याद करो, बनारस में तुम्हारे पास सिर्फ 500 रूपए थे.

तुमने जो लिया साउदी अरब और कनाडा के खालिस्तानियों से लिया. पर जो दिया, यहीं पर दे दिया.

हे माया-मुलायम…… जो लिया, इसी देश से लिया. जो दिया, इसी देश को दिया.

हे केजरी, तुम बनारस से खाली हाथ आए और अब पंजाब खाली हाथ चले हो. जो आज भाजपा का है, कल और किसी का था, परसों फिर भाजपा का ही होगा. तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे थे, बस यही प्रसन्नता तुम्हारे दु:खों का कारण है.

हे राहुल गांधी, सत्ता परिवर्तन संसार का नियम है. जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है.

सत्ता के मद में एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, पर जब सत्ता छिन जाती है तो तुम दरिद्र हो जाते हो.

मेरा-तेरा काला धन, छोटा-बड़ा प्लाट, अपना-पराया वोट बैंक…. मन से मिटा दो…. फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो.

न यह काला धन तुम्हारा है, न तुम इस काले धन के हो. अब तो इस काले धन का मालिक कल्लू कबाड़ी है….

यह रद्दी हुआ काला धन अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल जायेगा.

परन्तु मोदी सरकार स्थिर है, बहुमत में है, उसको जनता का समर्थन है. फिर तुम क्या हो? तुम्हारी औकात क्या है?

तुम अपने आपको इस ब्लैक मनी समेत इनकम टैक्स विभाग के सुपुर्द करो. यही सबसे उत्तम सहारा है. जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्ता, शोक से सर्वदा मुक्त है.

जो कुछ भी तू कमाता है, उसे इनकम टैक्स को अर्पण करता चल. ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंद अनुभव करेगा.

Comments

comments

loading...

1 COMMENT

  1. रामबदन गोड (सहायक अधयापक),दवाबा संसकृत पाठशाला बैरिया बलिया

    मोदी जी का साथ हम सब मिल कर दे यही समय की पुकार सभी चोर शोर मचा रहे है। सारे देशवा सी मिलकर इन चोरो को जबाब दे यही मेरीस सब लोगो से मै विनती करता हू।

LEAVE A REPLY