चाय पर चर्चा : लाख दुखों की एक दवा है काहे घबराए

0
112
Tea Home Remedies
चाय पर चर्चा

मैंने चाय पर चर्चा की थी कि सुबह चाय लोग क्यों पीते है, सब के तकरीबन दो ही कारण थे कि कब्ज़ तोड़ने के लिए और आदत हो गयी है. लोग कहते हैं चाय नहीं पीनी चाहिए नुकसानदायक है और है भी मैं भी मानती हूँ.

चलो आज चाय पर कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे बताती हूँ. नाना जी वैद्य थे और उनकी बेटी से कुछ सीखने को मिला-

1. बिना चीनी की काली चाय धीरे धीरे घूंट घूंट भर कर पिए वजन कम करने में काफी प्रभावशाली है…

2.  मोटापा कम करना हो तो गर्म पानी में एक इंच अदरक का टुकड़ा और एक चम्मच जीरा डालें और खूब उबालें, फिर उसमें पत्ती, चीनी दूध स्वादानुसार डालें और चाय बन जाए तो पी लें.. पीने में स्वाद भरी और तीन महीने में फर्क दिखने लगेगा….

3. बहुत ज्यादा एसिडिटी हो गयी, सर दुखने लगे तो चाय बनाते वक़्त उसमें खूब सारा पुदीना डालें और पुदीने का मौसम नहीं है तो पुदीना सुखा के भी रख सकते हैं, वो एक मुठ्ठी डालें और चाय को उबाल कर पी लें. 5 मिनट से भी पहले आराम मिल जाएगा गैस एसिडिटी और उल्टी से..

4. पैरों में एड़ियों में दर्द रहता हो जिनके सुबह सुबह पैर ज़मीन पर नहीं टिकते, चला नही जाता, वो चाय बनाते वक़्त आठ कालीमिर्च और आधा चम्मच सोंठ पाउडर डाल कर उबालें और फिर उसमें चाय पत्ती, चीनी, दूध डाल कर उबाल कर छान कर पियें. ये दिन में दो बार 3 महीने तक करें शर्तिया लाभ मिलेगा….

5. अगर टॉन्सिल हो गए हो गले में, खराश सूजन हो गयी हो, कानों तक चिसें जा रही हों, चाय में चीनी की जगह बताशे डाल कर चाय बनाये और जब भी पिएँ दिन में बताशे ही डालें, तुरन्त आराम मिलना शुरु हो जाएगा….

6. बहुत ज्यादा कफ और खाँसी हो गयी हो तो जब भी चाय बनाएं चाय में तुलसी के पत्ते, मुलेठी पाउडर और लौंग डाल कर उबालें और चाय बनाएं और पियें, जुखाम में भी आराम मिलना शुरु होगा और कफ शौच द्वारा बाहर आने लगेगा. वैसे चाय के आलवा भी उपाय है ब्रांडी पिएँ दो ढक्कन एक कप गर्म पानी में डाल कर तो जल्दी असर होगा.

7. काली चाय नींबू वाली बनाये पेट दर्द, मिचली, उल्टी और जुखाम में फायदेमन्द हैं.

8. दस्त लग गए हों और हालत बिलकुल पस्त हो गयी हो चाय बना कर देसी घी का तड़का लगाएं और तुरन्त पी जाएँ शायद दूसरी बार चाय पीनी ही न पड़े एक ही डोज़ में आराम मिल जाएगा.

9. चाय बना कर उस गर्म चाय में बर्फ का टुकड़ा उठा ठंडा पानी मिला कर पियें उस से भी दस्त रुक जाते हैं.

10. चाय में अदरक और सौंफ डाल कर उबाल कर पियें अदरक का और सौंफ का  रस पित्तनाशक है जिनको कब्ज़ की समस्या है अदरक  और सौंफ के रस की चाय से हल्का आराम मिलता है.. सिर्फ अदरक का पानी ही उबाल कर पिएँ  चाय न बना कर तो और भी असरकारक है वो पानी.

11. कभी भी खाली चाय न पियें  इलायची डालें, गैस नहीं बनने देती इलाइची और सुगन्ध अलग से देती है चाय को.

नोट : चाय बनाते वक़्त चाहे और कुछ न हो डालने को तो काली मिर्च जरूर डालें चार पांच दाने ही काफी  हैं खाली चाय नुकसानदायक होती है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY