जीवनदीप : आइये मौत के मुंह से छीन लाएं कबड्डी के राष्ट्रीय खिलाड़ी को

jivandeep-sudarshan-kabaddi-player-needs-help-making-india
Jivandeep : Kabaddi Player Sudarshan

आइये दोस्तों अब हम मेडिकल सेवा के अगले पड़ाव पर चलते हैं.. इस बार सेवा का जो मौका मिला है, वह बहुत ही ज्यादा संवेदनशील और एक बहुत ही बड़ी चिकित्सकीय जिम्मेदारी से भरा हुआ है.

कबड्डी और पेंटिंग का राष्ट्रीय खिलाड़ी सुदर्शन गोयल (23 वर्ष) कृषि महाविद्यालय बिलासपुर का चतुर्थ वर्ष का छात्र है.

Jivandeep

कुछ दिनों पहले इनकी तबियत अचानक से बिगड़ना चालू हुई. जिसका रायपुर के संजीवनी हॉस्पिटल में इलाज चला. उसके बाद इनकी हालात बिगड़ते जाने पर इन्हें दिनांक 15 सितंबर 2016 को बैंगलुरु के BGS Global Hospital हॉस्पिटल में भर्ती किया गया.

जहाँ ये वर्तमान में अभी एडमिट हैं. दोस्तों सुदर्शन को ब्लड कैंसर हो चुका है. उसकी नाजुक हालात को हॉस्पिटल बैंगलुरु के डॉक्टर बड़ी मुश्किल से कण्ट्रोल किये हुए हैं.

Jivandeep

अपने भाई की जान बचाने के लिए इनकी बहन शशि गोयल सामने आयी हैं. बोनमैरो ट्रांसप्लांट के लिए स्टेमसेल की जरुरत होती है जो कि इनकी बहन का लिया जायेगा.

उसके बाद ऑपरेशन किया जाएगा. इसके पहले कैंसर के बुरे प्रभाव से बचाने के लिए सुदर्शन की कीमोथैरेपी भी की जायेगी. डॉक्टरों का कहना है कि सुदर्शन का WBC Count 1.5 लाख तक पहुच गया है. जिसे कम करते हुए 20 हजार तक लाना जरुरी है. इसके बाद ही बोन मैरो ट्रांसप्लांट होगा. सुदर्शन का RBC काफी कम है इसलिए ऑपरेशन में परेशानी हो रही है..

Jivandeep

सुदर्शन के परिवार के सामने उसकी बिमारी के अलावा जो सबसे बड़ी समस्या है. वो है बोन मैरो ट्रांसप्लांट के खर्च की. हॉस्पिटल ने परिवार को 25 लाख रूपये का एस्टीमेट दिया है.

क्योंकि ट्रांसप्लांट के बाद एक लंबे वक़्त तक सुदर्शन को हॉस्पिटल में भर्ती रहना पड़ेगा. साथ ही उस पर और भी अन्य मेडिकल खर्चे होंगे. जिसकी कुल लागत 25 लाख के पार चली जायेगी.

अपने दोस्त को बचाने के लिए महाविद्याल के छत्र सडकों पर उतर कर जगह जगह चन्दा कर रहे हैं. ताकि जल्दी से जल्दी पैसे जुटाए जा सकें. पर रकम भी बहुत बड़ी है जो कम समय में जुटा लेना इतना आसान नहीं है!!

Jivandeep

अंत में मैं रविन्द्र आपसे अपने मन की बात कहना चाहता हूँ…. दोस्तों रकम बड़ी जरूर है पर हमारे हौसलों से बड़ी नहीं है.. अगर हम सब चाहे और अपने अपने सारे अप्रोच आदि इस्तेमाल करने लगे तो चुटकियो में यह रकम इकट्ठा की जा सकती है..

बस हमें यह सोचना होगा कि अगर ये बीमारी हमें या हमारे परिवार में किसी सदस्य को हुई होती तो हम उसकी जान बचने के लिये क्या-क्या करते!!

एक बार ये सोच लीजिये फिर रकम इकट्ठा करने के तरीके आपको अपने आप सामने नजर आ जायेंगे.. मैं इस लेख में इनके बड़े भाई लीगेंद्र गोयल जी का नंबर बैंक खाता नंबर शेयर कर रहा हूँ. आइये इस मिशन को कामयाब करने के लिए हम युद्ध गति से शुरुआत करते हैं..

सीधी और साफ़ बात … हमें किसी भी हाल में हमारे अपने छोटे भाई सुदर्शन गोयल का बोन मैरो ट्रांसप्लांट करवाना ही है, चाहे दुनिया इधर की उधर हो जाए!!

इस मुहीम से सम्बंधित एक एक बात मेरे द्वारा क्रॉस चेक की जा चुकी है. मैं इस महाविद्यालय के छात्रों से भी मिला हूँ, बैंगलुरु हॉस्पिटल में भी मैंने बात की है.

इसके बाद भी मैं इस लेख में इस मुहीम से सम्बंधित एक एक डाक्यूमेंट्स अटैच कर रहा हूँ. ताकि विश्वसनीयता बनी रहे.

आइये अब सहयोग के लिए कदम बढ़ाएं… यह ब्लड कैंसर पीड़ित छात्र सुदर्शन, ग्लोबल हॉस्पिटल बैंगलुरु के BMT Ward , Bed no. 116/B में एडमिट है. आप हॉस्पिटल के इस फोन नंबर 080-26255555/ 30444444 पर बात करके भी यह जानकारी क्रॉस चेक कर सकते हैं.
website-(www.globalhospitalsindia.com)
Address- BGS Global Hospital, Uttarahalli Main Road, kengeri bengaluru- 560060

आप इनके भाई के खाते में अपनी सहयोग राशि जमा कर सकते हैं.
लीगेंद्र कुमार गोयल (Ligendra Kumar Goyal),
मोबाइल.. 8462909665
स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया खाता नंबर- 31474189508
IFSC कोड- SBIN0005517 , दुर्गु कोंडल ब्रांच, कांकेर (छत्तीसगढ़)

रविन्द्र सिंह क्षत्री (सुमित फाउंडेशन ” जीवनदीप”)
मो-7415191234, 7987071215

आप इन तरीको से भी हमारी मदद कर सकते हैं.

1. इस पोस्ट को शेयर करके अपने जरुरी दोस्तों को टैग कीजिये.
2. इस पोस्ट के कमेंट बॉक्स में अपने जरुरी दोस्तों के नाम डालें, इससे वो अपने आप टैग होते चले जायेंगे.
3. और अंत में मैं अपने बिलासपुर वासियों से कहना चाहूंगा कि हमारे बिलासपुर की जनसँख्या ही खुद 5 लाख से ज्यादा है और अगर एक व्यक्ति सिर्फ 5 रूपये देना चालू कर दे तो समझ जाइये कि इलाज के लिए 25 लाख रूपये का यह लक्ष्य पाना कितना आसान हो जाएगा.. प्लीज प्लीज जरूर शेयर करें, जरूर मदद करें..
facebook.com/RavindraSinghKshatriJivandeep

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY