दिल्ली विधानसभा में PM के खिलाफ नारेबाजी, नोटबंदी के खिलाफ प्रस्ताव पारित

open letter to kejriwal
Kejriwal

नई दिल्ली. स्वघोषित अराजकतावादी अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली विधानसभा में मंगलवार को उस वक्त अराजकता नज़र आई, जब केजरीवाल पार्टी के विधायकों ने पीएम मोदी के खिलाफ नारेबाजी की.

[नोट बदलाव और बैन पर ममता और केजरीवाल का विरोध यूं ही तो नहीं]

देश में शायद यह अपनी तरह का पहला मामला होगा जब किसी विधानसभा में सत्तारूढ़ दल के विधायकों ने देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ नारेबाजी की हो.

[वही चमत्कारिक 500 का नोट तो था मेरी चुनावी लाठी]

मंगलवार को अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में अपने भाषण के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने जिस तरह नोटबंदी का ऐलान किया है, मैं उसकी निंदा करता हूं. इसी दौरान पीएम के खिलाफ नारेबाजी भी हुई.

[मोदी ने बड़ी तबियत से उछाला है यह पत्थर]

500 और 1000 के नोट बंद करने के मोदी सरकार के फैसले से बिलबिलाए अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में प्रस्ताव पारित करवाकर राष्ट्रपति से नोटबंदी खारिज करने की अपील की.

[लाइनों से बाहर रह जाने का अभाग]

उन्होंने कहा कि देश और दिल्ली के अंदर इमरजेंसी के हालात पैदा हो गए हैं, इसलिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है.

केजरीवाल ने कहा कि हम लोग करप्शन के खिलाफ लड़ते-लड़ते यहां तक आए हैं. अगर करप्शन के खिलाफ कोई भी कदम उठाया जाएगा तो हम सबसे पहले आगे खड़े होंगे. हमने जान दांव पर लगाकर ये लड़ाई लड़ी है.

उन्होंने कहा कि हम सकारात्मक राजनीति करते हैं लेकिन सरकार ने ये कैसा फैसला लिया है? 2000 के नोट लेकर आ गए. इससे काला धन कैसे खत्म होगा ये समझ में नहीं आ रहा. सवा सौ लोगों को लाइन में खड़ा कर ये कैसे होगा ये समझ से परे है.

वहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने अपने संबोधन में कहा कि पिछले 2 से 3 दिनों में बैंक और एटीएम की लाइन में लगकर 25 लोगों की मौत हुई है.

उन्होंने मानवता के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए सदन से 2 मिनट का मौन रखने की बात कही.

सदन में पीएम के खिलाफ आप विधायकों ने नारेबाजी भी की. वहीं विपक्षी डाल भाजपा ने इस मुद्दे पर विधानसभा से वॉक आउट किया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY