मोदी का पुनीत यज्ञ और उसकी रक्षा के लिए चलाया ब्रह्मास्त्र

Surgical Strike On Black Money
Surgical Strike On Black Money

मेरे 15 लाख तो उसी दिन व्याज समेत लौट आए थे जब मोदी जी ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक करवाया था …काले धन पर ऐतिहासिक निर्णय लेकर मोदी जी ने 15 लाख की दूसरी क़िस्त बोनस के रूप में लौटाई है.

स्वयं के चुनाव पर गर्व हो रहा है ..यह भारत वर्ष के आत्मगौरव का क्षण है. हम सौभाग्यशाली हैं कि हमें इन नन्हीं आखों से एक स्वर्णिम भारत के निर्माण को देखने का सुअवसर प्राप्त हो रहा है …काले धन पर लिया गया यह फैंसला भविष्य में मील का पत्थर साबित होगा …

ISIS का जासूस तंत्र, हवाला का जाल, नकली नोटों का धंधा, देह व्यापर, फिरौती – मर्डर – अपहरण उद्योग, बॉलीवुड का इस्लामीकरण , भू – माफिया , जल – माफिया, शिक्षा माफिया, NGO गैंग और तमाम अति भ्रष्ट कार्यों के तंत्र को मोदी जी ने एक झटके में एक तीर से जलाकर ख़ाक कर दिया है.

ऐसा करने के लिए अपार इक्षा शक्ति, आत्मबल और आत्म – सुचिता की आश्यकता होती है, ना जाने कितने अपने और विरोधियों से विरोध का खतरा होता है …प्रशासनिक व्यवस्था में उच्च पदासीन लोगों द्वारा घात करने की प्रबल आशंका होती है …इसलिए ऐसा निर्णय सिर्फ मोदी ही ले सकते हैं ..सिर्फ नरेंद्र दामोदरदास मोदी!!

जिनका हजारों करोड़ का नुकसान हो रहा हो वो कुछ ना कुछ तो करेंगे ही ; स्वाभाविक सी बात है ..इसलिए NGO गैंग, बॉलीवुड, कांगी – वामी गिरोह अब मीडिया के साथ मिलकर नए – नए नाटक करेंगे. देश में असिहष्णुता के फिर से एकाएक बढ़ जाने की पूरी सम्भावना है.

कुछ आम लोग, जिनके घर में शादी – ब्याह या कोई बीमार होगा उन्हें एकाएक तकलीफ का सामना करना पढ़ेगा …धूर्त राजनेता उनकी संवेदना को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे …बैंक की लम्बी लाइन में ये लोग भगदड़ तक भी करवा सकते हैं.

मित्रों, इन सभी चालों से बचने का प्रयास करें, आपके पास नोट बदलने के लिए 30 दिसम्बर तक का समय है, किसी भी तरह की अफवाह से सावधान रहें. विरोधी बहुत धूर्त और चालाक है, इस पुनीत यज्ञ की सफलता जन – मानस के सहयोग से ही संभव है. इसलिए तकलीफ को व्रत समझ कर किसी भी बहकावे में आने से बचने की जरूरत है.

सरकार को भी कुछ ठोस प्रयास करने चाहिए ; जैसे

प्रत्येक गाँव/वार्ड में नोटों के बदलने का कार्य कैम्प लगाकर, बैंक कर्मी सुरक्षा कवच के साथ कर सकते हैं. इससे बैंक में होनी वाली भीड़ से बचाव होगा; साथ ही भोले – भाले लोगों की संवेदना के साथ धूर्त राजनेता खेल भी नहीं पायेंगे
छोटे नोटों की उपलब्धता सुनिश्चित करना भी अति आवश्यक है.

जिनके घर शादी – ब्याह है उनका 500 – 1000 का नोट एक तय सीमा के भीतर एस्प्रेस काउंटर लगा कर बदला जाय ताकी लोगों को बेवजह परेशान ना होना पड़े.

एक काल – सेंटर चालू किया जाय, जिस पर लोग फोन करके पूरी जानकारी प्राप्त कर सकें ताकि अफवाह की गुंजाइश ही ना बचे.

भारत नए रास्ते पर चल चुका है ..इतिहास मोदी काल को जन – जागरण काल के रूप में स्वर्ण अक्षरों से लिखेगा!!

Comments

comments

loading...
SHARE
Previous articleडॉनल्ड ट्रम्प की जीत के बहाने, चिंता विज्ञान-गणित की
Next articleवही चमत्कारिक 500 का नोट तो था मेरी चुनावी लाठी
blank
जन्म : 18 अगस्त 1979 , फैजाबाद , उत्त्तर प्रदेश योग्यता : बी. टेक. (इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग), आई. ई. टी. लखनऊ ; सात अमेरिकन पेटेंट और दो पेपर कार्य : प्रिन्सिपल इंजीनियर ( चिप आर्किटेक्ट ) माइक्रोसेमी – वैंकूवर, कनाडा काव्य विधा : वीर रस और समसामायिक व्यंग काव्य विषय : प्राचीन भारत के गौरवमयी इतिहास को काव्य के माध्यम से जनसाधारण तक पहुँचाने के लिए प्रयासरत, साथ ही राजनीतिक और सामाजिक कुरीतियों पर व्यंग के माध्यम से कटाक्ष। प्रमुख कवितायेँ : हल्दीघाटी, हरि सिंह नलवा, मंगल पाण्डेय, शहीदों को सम्मान, धारा 370 और शहीद भगत सिंह कृतियाँ : माँ भारती की वेदना (प्रकाशनाधीन) और मंगल पाण्डेय (रचनारत खंड काव्य ) सम्पर्क : 001-604-889-2204 , 091-9945438904

LEAVE A REPLY