Solution of Pollution : किसान भाईयों से मार्मिक अपील

भाईयों प्रदूषण वैश्विक समस्या हैं ओर इस में किसान भाईयों का योगदान बहुत ही कम है. लेकिन आज कल उत्तरी भारतीय महाद्वीप पर जो वाष्प और धुंएँ की जो परत चढ़ी है इस में इस समय का तापमान व हमारे द्वारा खेतों में जलाई जा रही पराली का निश्चित तौर पर योगदान है.

मैं आप से बस दो बाते कहना चाहता हूँ..

1. पराली पर युरिया व अमोनिया का पानी छिड़क कर उत्तम् पशु आहार बनाइये. आप लोगों को पता ही है कि धान से डेढ गुणा पराली निकलती है.
ओर उस पशु चारे का भाव भी कम नहीं है. तो भाईयों अनजाने में धन में आग क्यूं लगाते हो.

2. भाईयों अगली फसल की भी तैयारी करनी है ओर पराली जलानी मजबूरी है तो आप से अपील है कि दो चार दिन धूप में सुखा लें. उस के बाद जलाओगे तो बिना धुएँ के जलेगा जैसे सूखी लकड़ियां या पत्तियां.

सरकार से भी अपील

मेरी भारत सरकार, हरियाणा सरकार या अन्य कोई सरकार, जन प्रतिनिधि, नीति निर्धारक, बुद्विजीवी वर्ग का कोई जिम्मेदार व्यक्ति यह लेख पढ़ रहा हो तो उन से नम्र निवेदन है कि Mobile biomass pyrolysis plant दुनिया में बहुत सी कंपनियां बनाती हैं वो ब्लॉक स्तर पर लगा दो ताकि जनता प्रदूषण से बचे. waste to wealth बना लो.

मान लिया हम किसान तो अनपढ़ हैं, भोले हैं. लेकिन आप तो…..

धन्यवाद
ताप म्हं बिरड़ाता.
आप का एक भ्राता..

– डॉ. शिव दर्शन मलिक

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY