13 साल बाद फिर भारतीय तोपों ने आग उगली, 40 पाकिस्तानी सैनिक और 4 पोस्ट्स तबाह

indian-army-used-artillery-guns-across-loc

नई दिल्ली. साल 2003 में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम समझौता होने के बाद पहली बार भारतीय तोपखाने ने आग उगली है.

समझा जाता है कि भारतीय सेना ने ये कार्रवाई शहीद सैनिक मनदीप के शव के साथ हुई बर्बरता का बदला लेने के लिए की.

भारतीय सेना ने नॉर्थ कश्मीर के केरन सेक्टर में एलओसी पार पाकिस्तान की चौकियों को ध्वस्त करने के लिए तोपों का इस्तेमाल किया था.

सरकारी सूत्रों ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी. सेना ने तोपों के इस्तेमाल से पाकिस्तान की 4 चौकियों के परखच्चे उड़ा दिए थे.

केरन सेक्टर में 29 अक्टूबर की रात भारतीय सेना ने जवाब दिया. सेना ने अपनी तोपों का मुंह सीधे पाकिस्तानी चौकियों की तरफ खोला.

पाकिस्तानी रेंजर्स के 40 जवान भारतीय कार्रवाई में मारे गए. पाकिस्तान की चार बड़ी चौकियों को भी तबाह कर दिया गया.

ऐसा पहली बार हुआ है कि सरकार के सूत्रों ने सेना द्वारा तोपों के इस्तेमाल की पुष्टि की है. इससे पहले महज ऐसा किए जाने की संभावनाएं ही जताई जाती थीं.

सरकारी सूत्रों ने बताया कि एक जवान के शव को क्षत-विक्षत करने के बाद सेना ने पाकिस्तान को आर्टिलरी गन से जवाब दिया था.

उल्लेखनीय है कि 28 अक्टूबर को कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में भारतीय जवान मनदीप सिंह शहीद हो गए थे.

गोली लगने के बाद मनदीप एक नाले में गिर गए और पाकिस्तानी आतंकी उनका सिर काट ले गए थे. तीन घंटे चली इस मुठभेड़ में एक आतंकी को भी मारा गया था.

भारतीय सेना की इस कार्रवाई से जहां शहीद मनदीप की शहादत का बदला ले लिया गया वहीं, पिछले 2 दिनों से पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग रुक गई है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY