राष्ट्रपति मुखर्जी को सौंपी गई काठमांडू शहर की चाबी

president-mukherjee-in-nepal

काठमांडू. भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नेपाल की अपनी यात्रा को ‘तीर्थयात्रा’ बताया है. राष्ट्रपति मुखर्जी नेपाल की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा पर हैं.

राष्ट्रपति ने भारत और नेपाल के लोगों के लिए पशुपतिनाथ मंदिर, वाराणसी और रामेश्वरम के महत्व को रेखांकित करते हुए दोनों देशों के बीच पुराने सांस्कृतिक संबंधों का उल्लेख किया.

काठमांडू में राष्ट्रपति मुखर्जी का नागरिक अभिनंदन किया गया तथा काठमांडू के नगर निगम प्रमुख रुद्रसिंह तमांग ने शहर की चाबी उन्हें सौंपी.

राष्ट्रपति ने आगंतुक पुस्तिका में लिखा कि काठमांडू न केवल नेपाल की राजनीतिक राजधानी है बल्कि क्षेत्र के लोगों के लिए एक आध्यात्मिक केंद्र भी है.

उन्होंने लिखा, मैं विशेष तौर पर इस पवित्र शहर की एक बार फिर यात्रा करके बहुत प्रसन्न हूं. यह कहने की जरूरत नहीं कि मेरी पिछली यात्रा के बाद से काठमांडू में काफी विस्तार हुआ है.

राष्ट्रपति ने लिखा, मैं काठमांडू मेट्रोपॉलिटन शहर कार्यालय को इसके लिए बधाई देता हूं कि उसने अपरिहार्य चुनौतियों के बावजूद इस तेजी से बढ़ते शहर का प्रबंधन करने में ऐसा समर्पण दिखाया है.

नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ सहित मौजूद अन्य लोगों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा, नेपाल की मेरी यात्रा एक तरह की तीर्थयात्रा भी है. यह दोनों देशों के बीच पहले से अधिक समझ और सहयोग को बढ़ाने के लिए मित्रता का एक मिशन है.

उन्होंने कहा, हमारे हजारों नागरिक, पशुपतिनाथ और मुक्तिनाथ के पवित्र मंदिर में शांति की तलाश में नेपाल की यात्रा करते हैं. इसी तरह से नेपाल के लोग आध्यात्मिक प्रेरणा की तलाश में उत्तर में वाराणसी और दक्षिण में रामेश्वरम की यात्रा करते हैं.

उन्होंने अपने दिन की शुरुआत ऐतिहासिक पशुपतिनाथ मंदिर में पूजा करके की. मंदिर में 108 बटुकों ने स्वस्ति मंत्रों के बीच उनका स्वागत किया गया. राष्ट्रपति ने मंदिर में रुद्राभिषेक किया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY