घाटी में आखिर स्कूल ही क्यों फूंके जा रहे हैं, मदरसे क्यों नहीं?

school-burnt-in-kashmir

पिछले हफ्ते कश्मीर घाटी में एक और स्कूल फूंक दिया गया.

कश्मीर घाटी में चूँकि 4 महीने हिमपात होता है और भीषण ठण्ड पड़ती है इसलिए ज़्यादातर भवन लकड़ी के बने होते है.

लकड़ी भी वो जो अत्यंत ज्वलनशील होती है. ज़रा सी चिंगारी भड़की और पूरा भवन धूँ धूँ कर जल उठता है और देखते ही देखते सब भस्म हो जाता है.

यही स्कूल भवन यदि कंक्रीट का हो तो उसमें आग लगने पर बहुत मामूली नुकसान होता है.

पिछले हफ्ते बारामूला का एक सरकारी स्कूल जला दिया गया. कुख्यात आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद जब से घाटी में हालात बिगड़े हैं, अब तक 19 स्कूल फूंके जा चुके हैं.

जब से घाटी में ये अलगाववाद का आंदोलन शुरू हुआ है, 200 से ज़्यादा सरकारी स्कूल फूंके जा चुके हैं.

कश्मीर घाटी के श्रीनगर में सबसे बड़ा और पुराना मिशनरी स्कूल है Biscoe School. ठीक लाल चौक पर है. इसकी एक शाखा गुलमर्ग में है और एक तंगमर्ग में.

आज से कोई 20 साल पहले जब कि वो तंगमर्ग वाली शाखा बन रही थी, तब मैंने उसे देखा था.

पूरा भवन ही लकड़ी का बना था. इतनी शानदार बिल्डिंग और क्या कलात्मक उसका शिल्प…. वाह…. यूँ लगता था मानो लकड़ी का कोई ताजमहल हो…. घाटी के 2000 बच्चे यहां पढ़ते थे.

फिर एक दिन हमने अखबारों में पढ़ा कि अलगाव वादियों ने वो तंगमर्ग का Biscoe School फूंक दिया. सिर्फ घंटे भर में सारा भवन जल के भस्म हो गया.

अलगाववादी जब किसी स्कूल भवन को आग लगाते हैं, उससे पहले वहाँ तक पहुंचने के सभी रास्ते ब्लॉक कर देते हैं जिससे फायर ब्रिगेड की गाड़ी आग बुझाने आ न सके.

अब सवाल उठता है कि अलगाववादियों की वो कौन सी सोच है जो स्कूलों को निशाना बनाती है?

घाटी में आखिर स्कूल ही क्यों फूंके जा रहे हैं? आज तक एक भी मदरसा क्यों नहीं फूँका गया?

इसका सीधा सा जवाब ये है कि जैसे बैक्टीरिया को पनपने के लिए एक अनुकूल वातावरण चाहिए, अनुकूल तापमान और नमी होगी तभी बैक्टीरिया पनपेगा वरना सुषुप्तावस्था में पड़ा रहेगा.

इसी तरह शान्ति का धर्म है. ये सिर्फ और सिर्फ जहालत में पनप सकता है. जहां शिक्षा होगी वहाँ दीन पनप नहीं सकता. इसलिए शान्ति दूत हमेशा शिक्षा संस्थानों को सबसे पहले निशाना बनाते हैं.

शांति दूतों का पहला लक्ष्य, अपने अनुयायी को भरसक जाहिल बना कर रखो और तालीम से दूर रखो. देनी ही है तो मदरसे में दीनी तालीम दो.

गलती से अगर कोई पढ़ लिख जाए तो उसे भी दीनी तालीम दे के बेअसर कर दो.

जहालत का अन्धेरा कायम रहेगा तभी तक दीन कायम रहेगा.

इसीलिए घाटी में स्कूलों को निशाना बनाया जा रहा है और नए मदरसे खोले जा रहे हैं.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया ऑनलाइन (www.makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया ऑनलाइन के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया ऑनलाइन उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY