पाकिस्तानी सीमा पर माहौल और भौचक भारतीय विपक्षी दल

narendra_modi_and_opposition

पाकिस्तान बॉर्डर पर जो माहौल चल रहा है और जैसे आर्मी और बीएसएफ़ लहंगे में घुस कर मार रही है, और जैसे मीडिया इन ख़बरों को पेश कर रहा है… उससे स्वाभाविक है कि भारत की राजनीतिक जमात में बड़ी बेचैनी है.

कल से खबर चल रही है कि बीएसएफ़ ने सीमा पार भीषण हमला किया है जिसमें 15 पाकिस्तानी रेंजर्स मारे गए हैं. अस्पताल घायलों से भरे पड़े हैं. सीमा पार सारी रात एम्बुलेंस घायलों को अस्पताल पहुंचाती रही और लाशें ढोती रही.

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि कल बीएसएफ़ के जो उच्चाधिकारी इस हमले की जानकारी मीडिया को दे रहे थे, उनका नाम अरुण कुमार झा है और वो बीएसएफ़ में ADG हैं. इस से पहले झा साहब उत्तरप्रदेश में ADGP (Law and Order) थे.

जब मुज़फ्फरनगर में दंगा हुआ और जैसे यूपी की समाजवादी सरकार ने उस समय प्रदेश की क़ानून व्यवस्था को हैंडल किया और जिस तरह आज़म खान ने पुलिस के काम में हस्तक्षेप किया, उससे तंग आकर अरुण कुमार जी ने यूपी पुलिस त्याग, केंद्र में पदस्थापना ले ली थी.

अरुण कुमार का यूपी में बड़ा गौरवशाली इतिहास रहा है और उन्होंने मेरे जिले गाज़ीपुर में 1990 में कल्याणसिंह जी की सरकार में एसपी का पदभार सम्हाला था.

उनकी उस जमाने की दहशत अपराधियों और माफिया में आज तक कायम है. जब अरुण कुमार एसटीएफ में थे तो उन्होंने श्रीप्रकाश शुक्ला का एनकाउंटर किया था.

वही अरुण कुमार अब बीएसएफ़ में ADGP हैं और परसों जो स्ट्राइक हुई, वो उन्हीं के निर्देशन में हुई.

इसके अलावा भारतीय सेना के एक जवान के शव को जिस प्रकार पाकी सेना ने क्षत-विक्षत किया उस से भी व्यापक जनाक्रोश उपजा है.

इसकी प्रतिक्रिया में जब गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बदला लिया जाएगा, तो किसी को उनकी बात पर अविश्वास नहीं हुआ.

मोदी सरकार की इतनी विश्वसनीयता तो कम से कम है ही कि अगर कह रहे हैं कि पाकिस्तान को घर में घुस के मारेंगे तो मारेंगे.

अब जबकि बीएसएफ़ ने कल 15 पाकिस्तानी रेंजर्स को मार गिराया है, और देश में अभी जो राजनीतिक माहौल है उसमें बहुत जल्दी ऐसे बयानात सामने आ सकते हैं कि-

इंडियन आर्मी और बीएसएफ़, भारतीय जनता पार्टी के एजेंट के तौर पर काम कर रहे हैं…..

भाजपा को चुनाव में फायदा पहुंचाने के लिए रोजाना 15-15 पाकिस्तानी रेंजर्स मारे जा रहे हैं….

आखिर क्या ज़रूरत है सेना और बीएसएफ़ को इतना पराक्रम दिखाने की???

दिग्विजय सिंह तो कह भी चुके हैं कि मोदी युद्धोन्मादी (War Monger) हैं.

राहुल गांधी कहते हैं कि मोदी खून की दलाली कर रहे हैं.

केजरीवाल बहुत जल्दी प्रेस के सामने ऊँगली दिखा के कहेंगे, मोदी जी ये आपने अच्छा नहीं किया…. अब आपकी बीएसएफ़ भी पाकिस्तान में घुस कर मार रही है? ये हमारे खिलाफ एक षड्यंत्र है.

मायावती लखनऊ रैली में कह भी चुकी हैं कि मोदी पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध भी छेड़ सकते हैं.

मोदी ने युद्ध छेड़ दिया है… विपक्ष भौचक है…

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया ऑनलाइन (www.makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया ऑनलाइन के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया ऑनलाइन उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY