नोएडा को बेसकैंप बनाकर वारदात करने वाले थे नक्सली, घातक हथियार के साथ अब तक 10 गिरफ़्तार

naxal-up-ats-2

नोएडा. बीती रात दिल्ली पुलिस और यूपी के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने कुल नौ नक्सलियों को गिरफ़्तार किया और एक को चंदौली से गिरफ्तार किया गया.

[दिल्ली तक पहुंचा लाल आतंक, नोएडा से 5 लाख के इनामी सहित 6 नक्सली गिरफ्तार]

नक्सलियों ने नोएडा को बेसकैंप बनाया था. उन्होंने यहां दो मकान और एक दुकान को किराए पर ले रखा था. अपनी पहचान छुपाने के लिए ये नक्सली प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करते थे. दीपावली के आसपास किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाहते थे.

शनिवार रात हुई इस कार्रवाई में सिर्फ 6 अपराधियों के पकडे जाने की प्रारम्भिक सूचना थी. रविवार को यूपी एटीएस के आईजी असीम अरुण ने इस मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस की है.

उन्होंने खुलासा किया है कि ये लोग यहां अपराधिक गतिविधियां करने के लिए जुट रहे थे, फिलहाल जांच जारी है. संभव है अभी और गिरफ्तारियों हो.

आईजी के मुताबिक पकड़े गए 10 नक्सलियों में से 9 को नोएडा से जबकि 1 को चंदौली से गिरफ्तार किया है. नोएडा से पकड़े गए नक्सलियों के पास से 7 पिस्टल, भारी मात्रा में विस्फोटक और डेटोनेटर मिले हैं.

नोएडा में से गिरफ्तार नक्सलियों में से एक रंजीत पासवान पीपल्स वॉर ग्रुप का एरिया कमांडर रहा है, जबकि चंदौली से पकड़े गए नक्सली का नाम सुनील रवि दास है.

सुनील इस गिरोह का सरगना है. सुनील से 3 एसएलआर मैगजीन, 1 इंसास रायफल, 2 रायफल और 500 से ज्यादा कारतूस को पुलिस ने बरामद किए हैं. आईजी ने बताया है कि नक्सली सुनील ने इसांस रायफल फौज से लूटी गई होगी.

आईजी ने बताया है कि किसी जागरुक नागरिक ने इनके बारे में एसएसपी को सूचना दी थी. सूचना में उसने इन लोगों के गलत गतिविधियों में शामिल होने का शक जताया था. इसके बाद इन लोगों पर लोकल सर्विलांस रखी गई.

जांच में पाया गया कि यह एक ग्रुप है. जो नक्सलवादी ग्रुप है. यह नोएडा में बेस बनाना चाहते थे. इन्होंने नोएडा में प्रॉपर्टी डीलिंग की दुकान दिखाने के लिए ली हुई थी.

उन्होंने आगे बताया है कि आज सुबह चंदौली से जो असलहा पकड़ा गया है, ये लोग उसे नोएडा लाने की तैयारी में थे. नक्सलियों के पास से 13 मोबाइल फोन और 2 लैपटॉप भी बरामद किए गए हैं. छापेमारी में गाजियाबाद के रजिस्ट्रेशन नंबर वाली एक वैगन आर गाड़ी भी बरामद की गई.

उल्लेखनीय है शनिवार को नोएडा के सेक्टर-49 के हिंडन विहार इलाके के फ्लैट से 6 नक्सलियों को गिरफ्तार किया था. नक्सलियों के पास से 6 पिस्टल, 50 कारतूस, 45 जिलेटिन की छड़ें, 125 डेटोनेटर बरामद किए गए थे.

इसके बाद पुलिस ने सर्तकता दिखाते हुए हुए चार और नक्सलियों को गिरफ्तार किया. नोएडा से गिरफ्तार किए गए नक्सलियों में प्रदीप कुमार सिंह नाम का नक्सली कमांडर भी शामिल है. प्रदीप के सिर पर 5 लाख रुपये का इनाम घोषित था.

बताया जा रहा है प्रदीप बम बनाने का भी विशेषज्ञ है. प्रदीप की गिरफ्तारी सुरक्षा एजेंसियों की बड़ी सफलता मानी जा रही है. सभी नक्सली हिंडन अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल पर एक फ्लैट में किराए पर रह रहे थे.

कुख्यात नक्सलियों के साथ दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा बक्सर का शैलेन्द्र कुमार पुलिस इंसपेक्टर रहे स्व. हीरा प्रसाद राम का पुत्र है. हालांकि, उसके पिता की 2013 में मौत हो चुकी है.

शैलेन्द्र का चीनी मिल मोहल्ले में अपना मकान है, जहां वह अपनी पत्नी व दो बच्चों के साथ रहता है. पत्नी के मुताबिक वह दो दिन पहले ही दिल्ली गया था. बक्सर पुलिस के पास उसका कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं है.

वहीं एक अन्य गिरफ्तार आरोपी पवन झा का घर रुद्रपुर, नेपाल सीमा से करीब 40 किमी की दूरी पर ही है और नेपाली माओवादियों से उसके संपर्क होने की आशंका को भी नकारा नहीं जा सकता है.

जानकारी के मुताबिक नक्सली 2012 से इस फ्लैट को छुपने के लिए इस्तेमाल कर रहे थे. सूत्रों के मुताबिक नक्सली दिल्ली-एनसीआर में बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY