JNU: NSUI ने रावण की जगह पीएम का पुतला फूँका, गृह मंत्रालय ने माँगी रिपोर्ट

नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में कांग्रेस के छात्र संगठन NSUI (भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन) के छात्र नेताओं द्वारा दशहरा के मौके पर रावण की जगह प्रधानमंत्री और अन्य लोगों के पुतले जलाने के मामले में दिल्ली पुलिस से रिपोर्ट मांगी है.

इसके साथ ही, केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन के गृहनगर में गत बुधवार को भाजपा कार्यकर्ता रेमिथ की हत्या कर दी गई थी. पार्टी ने इसके विरोध में गुरुवार को राज्य में 12 घंटे की हड़ताल का आह्वान भी किया था. गृह मंत्रालय ने इस मामले में भी राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, जेएनयू में दशहरे के मौके पर एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रावण के तौर पर दर्शाते हुए पुतला जलाया है, जिसके बाद विवाद काफी बढ़ गया है. वहीं, इस घटना के सामने आते ही जेएनयू के वीसी ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

जानकारी के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस से इस घटनाक्रम पर विस्तार से रिपोर्ट देने को कहा है. जेएनयू के कुलपति जगदेश कुमार ने भी ट्वीट कर कहा, पुतला जलाए जाने की घटना के बारे में हमें जानकारी मिली है. इस बारे में और पड़ताल की जा रही है.

रिपोर्टों के अनुसार, कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कुछ और लोगों का चेहरा मिलाकर एक पुतले का दहन किया है. पीएम के साथ 9 चेहरे लगाकर पुतले का दहन किया गया है. इसमें अमित शाह, बाबा रामदेव, नाथूराम गोडसे, जेएनयू के वीसी के चेहरे भी लगाए गए थे.

जेएनयू परिसर में एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने साबरमती ढाबे के पास पुतले का दहन किया. एनएसयूआई का कहना है कि हमने रावण नहीं बल्कि पीएम मोदी का पुतला जलाया.

जिन पुतलों को परिसर में जलाया गया उनमें से एक पर विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर जगदेश कुमार की तस्वीर भी लगाई गई थी. जगदेश कुमार ने कहा कि हम इस मामले को देख रहे हैं.

पुतला दहन का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद से इसे लेकर बड़ा विवाद खड़ा हो गया है. जेएनयू प्रशासन ने इस पर सख्त कदम उठाते हुए पूरे घटनाक्रम की जांच का आदेश दिया है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY