क्या कभी कांग्रेस का दायां हाथ था आतंकी सरगना मौलाना मसूद अज़हर?

देश पर सबसे अधिक समय तक शासन करने वाली कांग्रेस क्या राजनीतिक फायदे के लिए आतंकवादियों का भी इस्तेमाल करती थी या करती है?

हिंदी के सबसे बड़े अख़बार दैनिक भास्कर की माने तो कांग्रेस ने ऐसा किया था और इस अखबार ने यह खबर 01 मई 2012 को अत्यंत विस्तृत रूप में छापी थी.

यह खबर बहुत विस्तार से बताती है कि  पाकिस्तानी आतंकवादी सरगना मौलाना मसूद अज़हर कांग्रेस पार्टी का कितना करीबी और विश्वसनीय था.

कांग्रेस द्वारा उसको सौंपे गए कामों को अंजाम देने के लिए वह दूसरों की ही नहीं खुद अपनी जान पर भी खेल जाता था.स्पष्ट कर दूं कि इस खबर में जिस आतंकी सरगना मौलाना मसूद अज़हर का जिक्र है वो कोई और नहीं, बल्कि वही मौलाना मसूद अज़हर है जिसका नाम ले लेकर कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल शुक्रवार को अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में आगबबूला हुए जा रहे थे.

kapil-sibalराहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान की सफाई देने के लिए बुलाई गई इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिब्बल ने अज़हर के आतंकी कारनामों के लिए भाजपा को जिम्मेदार बताया था.

कपिल सिब्बल की कल की बातों में कितना दम था, इसका जवाब आज से लगभग साढ़े 4 साल पहले छपी यह खबर स्वयं दे देती है.

जब यह खबर छपी उस समय देश में नरेंद्र मोदी की नहीं, राहुल-सोनिया की पार्टी की सरकार थी.

और इस खबर का खण्डन या विरोध करने के बजाय कांग्रेस ने तब से अब तक मौन रहने में ही अपनी भलाई समझी है.

यह पूरी खबर आप भी पढ़ सकते हैं इस लिंक पर क्लिक कर के.

http://m.bhaskar.com/news/NAT-congress-had-hand-with-maulana-masood-azhar-3195836.html

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY