इंटरनेट बिना जीवन : क्या हम फिर लौट सकेंगे प्रकृति की गोद में?

कल्पना कीजिये आप इन्टरनेट पर काम कर रहे हैं और अचानक नेट चलना बंद हो जाए तो आप कैसे खीज उठेंगे. किसी की सेल्फी पूरी अपलोड नहीं हो सकी, किसी का स्टेटस अधूरा रह गया, किसी के ऑफिस की फाइल ट्रान्सफर नहीं हो सकी, कोई अपने प्रिय से बात नहीं कर सका…

ये तो सिर्फ कुछ मिनट और घंटों की परेशानी है. लेकिन यदि ऐसा हमेशा के लिए हो जाए तो क्या आज के समय में आप इन्टरनेट के बिना अपनी ज़िंदगी के कल्पना कर सकते हैं?

आप इस सवाल को भले ही हंसी में उड़ा दें, लेकिन लंदन के डॉकलैंड जिले में कैनेरी वार्फ के उत्तर-पूर्व में एक मौजूद इस बड़ी इमारत शायद वह जगह है जहां से इसे खत्म किया जा सकता है!

इस इमारत का बाहरी हिस्सा मेटल फेंस से घिरा हुआ है. इसमें कहीं कोई खिड़की नजर नहीं आती है, लेकिन इमारत के बाहरी हिस्सों में सुरक्षा के लिए ढेरों कैमरे लगे हुए हैं.

यह लिंक्स (लंदन इंटरनेट एक्सचेंज) की बिल्डिंग है और यह दुनिया भर में होने वाले इंटरनेट ट्रैफिक एक्सचेंज के सबसे बड़े ठिकानों में एक है. ऐसे बड़े एक्सचेंज दुनिया में और भी हैं, लेकिन उनकी संख्या बहुत ज्यादा नहीं है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक लिंक्स जैसे एक्सचेंजों की संख्या 30 के आसपास होगी और ऐसी इमारतें दुनिया भर में फैली हुई हैं. ऐसी इमारतों से ही इंटरनेट की दुनिया संचालित होती है. अगर इन इमारतों में कोई बाधा आ जाए तो इंटरनेट की दुनिया पर बहुत बड़ा असर पड़ेगा.

हालांकि ऐसा होना इतना आसान भी नहीं है. टियर वन नेटवर्कों में लेवल 3 के चीफ टेक्निकल ऑफिसर जैक वाटर्स मानते हैं कि इन इमारतों के साथ साथ इंटरनेट की दुनिया भी काफी सुरक्षित होती है.

ऐसे में, एक सवाल ये उठता है कि अगर इन इमारतों में लिंक को काट दिया जाए, तो इंटरनेट की दुनिया बाधित हो जाएगी? इस पर विचार करने से पहले हम देख लें कि दुनिया भर में असंख्य मील लंबी तारों के जरिए सूचनाएं एक्सचेंज हो रही हैं. इन तारों का बड़ा हिस्सा असुरक्षित है खासकर जमीन के नीचे से गुजरने वाले तार.

कई बार हादसों की वजह से भी इंटरनेट केबल प्रभावित होते हैं. कई बार भूकंप से या फिर पानी के अंदर जहाजों के एंकर से केबल प्रभावित होते हैं. माना जाता है कि 2008 में मिस्र सहित कुछ देशों में इंटरनेट इसी तरह की बाधा के चलते प्रभावित हुआ था.

सोचिए इन्टरनेट नहीं होगा तो क्या हम फिर प्रकृति की गोद में लौट सकेंगे?

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY