खड़गे की रक्तपात की धमकी, कोरी धमकी नहीं

मोदीजी का संसद में भाषण सुना. बेहद शालीन, संयत, नपा-तुला. पूरे भाषण में शायद ही कोई ऐसी बात थी जिससे मैं सहमत हूँ. (Winter Session, 2015 of Parliament which commenced on Thursday, the 26th of November, 2015, and concluded on Wednesday, the 23rd of December, 2015).

पर एक राजनीतिक व्यक्तव्य की गुणवत्ता इस बात से नहीं नापी जा सकती कि उसमें कही हुई बातें कितनी सही हैं, बल्कि यह देखा जाता है कि उसका उद्देश्य पूरा हुआ या नहीं?

मल्लिकार्जुन खड़गे ने मूल निवासी-विदेशी आर्य की बहस शुरू करने की कोशिश की और पूरे देश में रक्तपात की धमकी दी. (खड़गे के शब्दों में – खून की नदियां बह जाएंगी) यह कोरी धमकी नहीं है, यह सचमुच कांग्रेस का प्लान है.

मोदीजी ने इस खतरे को समझा, अपने भाषण में उनका ऑडियंस वही थे, जो खड़गे के थे. और मोदीजी ने खड़गे के भाषण पर सीधी प्रतिक्रिया दिए बिना उससे हो सकने वाले डैमेज को कन्ट्रोल किया.

पर यह डैमेज सिर्फ संसद में दिए गए एक भाषण का नहीं था, इसे कन्ट्रोल भी सिर्फ एक भाषण से नहीं किया जा सकता.

ब्रेकिंग-इंडिया प्लान का केन्द्रीय प्लॉट है हिन्दू समाज को जातिगत आधार पर, और इस झूठी आर्यन-इन्वेज़न थ्योरी के सहारे मूलनिवासी और बाहरी के बीच बाँटना.

एक मुस्लिम-दलित एलायंस स्थापित करने की कोशिश की जा रही है, और जिस दिन यह एलायंस पूर्ण रूप से स्थापित हो जाएगा, भारत में गृह-युद्ध और नरसंहार को कोई रोक नहीं सकता.

आज यह एलायंस कम से कम आंशिक रूप से स्थापित हो रहा है, और इसे एक्टिवेट करके देश को अस्थिर करने की धमकी खड़गे ने दी थी, जिससे कम से कम विकास के एजेंडे पर मोदी कोई काम नहीं कर सकें.

मोदी के भाषण से यह आश्वासन तो मिला कि इस खतरे के प्रति मोदी जागरुक हैं. पर इस मेकैनिज्म को प्रशासकीय स्तर पर काबू में करने और नष्ट करने की प्रतिबद्धता कार्यरूप में दिखाई नहीं दे रही.

हमारा देश सूखे पुआल के ढेर पर बैठा है. उस पर पेट्रोल उड़ेलने की मीडिया को पूरी छूट मिली हुई है. वैसे में 44 सांसदों की पार्टी का एक गुमनाम नेता खड़गे अगर एक माचिस मारने की धमकी देकर सरकार को ब्लैकमेल कर रहा है तो आश्चर्य क्या है?

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया ऑनलाइन (www.makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया ऑनलाइन के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया ऑनलाइन उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY